loading...
जलसमाधि लेने पहुंची 14 वर्षीय युवती, आखिर क्यों?

पिछले दिनों उत्तरप्रदेश के आगरा में पिनाहट के पास बसे अमरसिंहपुरा गांव में एक लड़की ने जलसमाधि लेने का निर्णय ले कर सबको सकते में डाल दिया। हमारे इतिहास में हालांकि जलसमाधि का महत्त्व है लेकिन वर्तमान समय में यह कदम उठाना कहीं न कहीं अंधविश्वास को दर्शाता है। एक तरह से जलसमाधि आज अप्रासंगिक सिद्ध हो चुकी है।




ये है सच?

जलसमाधि का निर्णय लेने वाली किशोरी का नाम नीरू है जो कि अमरसिंहपुरा गांव के एक अध्यापक की सबसे छोटी बेटी हैं। कुछ दिन पहले नीरू ने गांव के लोगों से कहा था कि सपने में आई देवी मां ने उसे जलसमाधि लेने के लिए कहा है और इसी के चलते गांव के तालाब में वो जलसमाधि लेने जा रही है।

सोमवार के दिन सभी ग्रामीणों ने उसका अभिषेक किया और उसकी जलसमाधि क्रिया संबंधी तैयारियां करने लगे। इसी दौरान पुलिस ने वहां पहुंच कर इन गतिविधियों को रूकवा दिया और जांच करने लगी। पुलिस ने नीरू को घर पहुंचाने के बाद बाहरी लोगों से उसके मिलने पर मनाही लगाई।

पुलिस ने करवाई नीरू की जांच :-


मंगलवार को पुलिस के साथ डॉक्टरों की एक टीम आई, जिसने नीरू की शारीरिक और मानसिक जांच करने के बाद वापसी का रुख किया।
loading...
हमसे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को Like करे
loading...

SHARE THIS
Previous Post
Next Post