loading...
जब जल्दी होता है वीर्यपात, तो अपना लेने चाहिए उपाय

अक्सर कुछ लड़के बहुत ज्यादा उत्साहित या नव्रस होकर जल्दी डिस्चाज हो जाते हैं। 22 वर्षीय रमन के साथ भी ऐसा हुआ है। रमन ने हमारी बबली आंटी को बताया कि जब भी मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ यौन सम्बन्ध बनाता हूँ, मेरा वीर्यपात हो जाता है। मैं इस बारें में क्या करूँ?



रमन का कहना है कि मैं तब तक सेक्स नहीं करना चाहता जब तक की मेरी शादी ना हो जाये। जब मैं अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ यौन सम्बन्ध बनाता हूँ तो हम सेक्स नहीं करते, अधिकतर सिर्फ चुम्बन करते हैं। मैं उसके साथ शादी से पहले सेक्स करना भी नहीं चाहता लेकिन मेरा वीर्यपात होना मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगता।

रमन की समस्या का समाधान बताती हुई हमारी आंटी जी कहती हैं...रमन पुत्तर, थोडा ठण्ड पाओ.. सबसे पहले तो बेटा जी, मैं तुझे ये समझाना चाहती हूँ की पूरी तरह कामोतेजित होने पर वीर्यपात होना बिलकुल नोर्मल है। बहुत सारे लोगों को ये लगता है की वीर्यपात योनी प्रवेश के बाद ही होना चाहिए, लेकिन ये सच नहीं है। वीर्यपात का योनी प्रवेश से कोई लेना देना नहीं है, सिर्फ कमोतेजित होना काफी है - जो की wet dreams का भी कारण है।

पुत्तर, आजकल ज़माना ही ऐसा है की लोग सब कुछ जल्दी करने के चक्कर में रहते हैं। शादी से पहले सेक्स ना करने का निर्णय बहुत कम लोग लेते है लेकिन ऐसा करना बिलकुल नोर्मल है। लेकिन इसका शरीर पर क्या असर पड़ सकता है ये जानना ज़रूरी है।

किशोरावस्था के बाद, पुरुष का शरीर अंडे बनाना शुरू करता है और कामोतेजित होने पर, लिंग तन जाता है और कुछ समय बाद वो अंडे बाहर निकाल देता है। कभी कभार आप सिर्फ कामोतेजित होते हैं और अपने आप को गीला पाते हैं, और तेरे साथ भी यही हो रहा है।



क्या यह कोई परेशानी है?

जैसा की मैंने कहा, बेटा जी, तू ये समझ ले की ये बिलकुल नोर्मल चीज़ है। वो भी जब तूने शादी से पहले सेक्स ना करने का सोचा है तो फिर तो ये बिलकुल नोर्मल है की तेरा शरीर कमोतेजित होने पर अंडे बाहर निकाल देता है।

लेकिन समय के साथ, तू देखेगा की तेरा इस पर कंट्रोल बेहतर होने लगेगा और फिर हमेशा अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ यौन सम्बन्ध बनाने पर तेरा वीर्यपात नहीं होगा। और हाँ, ज़रा अपनी धारा पर भी ध्यान देना। और हाँ, क्या तुझे ओर्गेस्म, ओये मतलब चरम आनंद भी होता है?

क्यूंकि अगर तुझे चरम आनंद नहीं होता, और तेरा ज्यादा वीर्यपात भी नहीं होता, और इसका मतलब यह वीर्यपात के पूर्व की स्थिति है, जिसमें बेरंग पदार्थ बाहर निकलता है, जो की असल सेक्स के दौरान चिकनाई देने का काम करता है। ये पदार्थ भी शरीर के उतेजित होने पर बाहर निकलता है।

कर सकते है आप ऐसे :-

पुत्तर, मैं जो बेस्ट सलाह तुझे दे सकती हूँ, वो ये है की तो अपने ऊपर इतना कठोर मत बन। मतलब समझ रहा है ना। अच्छा, मजाक छोड़, बात ये है की तू चिंता करना छोड़ दे क्यूंकि धीरे धीरे ये अपने आप कंट्रोल हो जायेगा। अभी तू इस बारे में कुछ ज्यादा नहीं कर पायेगा, लेकिन समय के साथ, तेरा शरीर तेरी ज़रूरतों को समझने लगेगा और फिर इस तरह से वीर्यपात नहीं होगा।

दूसरी और सबसे ज़रूरी सलाह ये है की बिंदास हस्तमैथुन कर। जी पुत्तर जी, अपने आप को स्वयं सुख दे। ये तेरे लिए अच्छा है और शायद तुझे भी चीज़ें समझने में मदद करे। हस्तमैथुन अपने आप को अपने हाथ से सुख देने की कला है, ये तो तुझे शायद पता ही होगा।


हस्तमैथुन का फायदा ये है की ये बिलकुल सुरक्षित है और बहुत ही मज़ेदार भी। ये बिलकुल प्राकृतिक है, और ये तेरे वीर्यपात को कंट्रोल करने में भी तेरी मदद करेगा। वो जो इकट्टे हुए अंडे बाहर निकलने के लिए तड़प रहे हैं, उनको भी आजादी मिलेगी! आखिर में, पुत्तर जी, मैं बस ये ही कहूँगी, आराम से बैठ, रूह अफज़ा का ठंडा ग्लास पी और ऐश कर। सब ठीक हो जाना है!
loading...
हमसे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को Like करे
loading...

SHARE THIS
Previous Post
Next Post