Featured Posts

Most selected posts are waiting for you. Check this out

राजस्थान में होटल व ढाबों पर हो रहा ऐसा गन्दा काम कि वीडियो हुआ वायरल...

राजस्थान में होटल व ढाबों पर हो रहा ऐसा गन्दा काम कि वीडियो हुआ वायरल...

राजस्थान के सीकर जिले के कांवट कस्बे में प्रतिबंधित नशीली दवा अवैध रूप से बेची जा रही है। यहां तक की खांसी को दूर करने के काम में आने वाली दवा को भी युवा वर्ग नशा करने के काम मे ले रहा है। कांवट कस्बे में प्रतिबंधित नशीली दवा होटल, ढाबों व चाय की दुकानों पर आसानी से मिल जाती हैं।



कांवट में नशीली दवा बेचने वाला एक पूरा गिरोह सक्रिय है। सूत्रों की मानें तो यह गिरोह गाड़ी में आकर नशीली दवाओं की सप्लाई छोटे व्यापारियों को करता है। इसके अलावा यह दवा बाइक की डिग्गी में रखकर भी युवाओं तक पहुंचाई जा रही है। हालांकि इन दवाओं को चिकित्सक द्वारा लिखी पर्ची पर रजिस्टर्ड मेडिकल स्टोर से ही खरीदा जा सकता है। 

क्या है वीडियो में?

कांवट में किस तरह से यह दवा आसानी से मिल जाती है। इसका एक वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियों मे दिखाया गया है कि युवाओं के कदम किस तरह से नशे के सौदागरों के पास उठ रहे हैं। इस वीडियो में 98 रुपए कीमत की कोरक्स सीरप के 150 रुपए तक वसूले जा रहे हैं।

शिकायत के बाद भी नही होती कार्रवाई :-

नशीली दवा के मामले में स्थानीय लोगों की माने तो पुलिस को सूचना देने के बाद भी इन पर कोई कार्रवाई नही होती है। ग्रामीणों ने रविवार को कांवट सीएचसी का लोकार्पण करने आये चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़ से इस पूरे मामले की शिकायत की है। इस पर चिकित्सा मंत्री ने टीम भेजकर छापेमार कार्रवाई करवाने का आश्वासन दिया है।

खुलेआम बिक रही यह दवा :-


नशे के प्रयोग मे ली जाने वाली दवा कोडीन साल्ट युक्त होती है। यह दवा बाजार में कोरेक्स, रेस्कॉफ, फेंसीड्रिल सहित कई ब्रॉड नेम से खुलेआम बेची जा रही है।
Source@RP
शर्मनाक : 17 साल के छात्र को शराब पिलाकर पूरी रात करती रही अध्यापिका यह गंदा काम...

शर्मनाक : 17 साल के छात्र को शराब पिलाकर पूरी रात करती रही अध्यापिका यह गंदा काम...

शिक्षक और छात्र के बीच भगवान और भक्त जैसा रिश्‍ता होता है, लेकिन 'द सन' में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, स्कॉटलैंड के एक स्कूल में फ्रेंच पढ़ाने वाली टीचर ईज़ाबेल ग्राहम (28 वर्ष) ने अपने छात्र को शराब पिला कर होटल में कई बार उसके साथ संबंध बनाए।

17 वर्षीय नाबालिग छात्र से ऐसा करने पर महिला टीचर के पढ़ाने पर रोक लगा दी गई है। हालांकि उसने अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार किया है। ग्राहम ने कहा कि उस रात वो काफी नशे में थी और उसे घटना के बारे में कुछ भी याद नहीं है।

जून 2014 में हुई प्रॉम नाइट (सेशन खत्म होने का बाद का समारोह) के बाद कुछ फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। फोटो में एक गोरी महिला बेड पर सो रही है जबकि घटना में शामिल लड़का हाथ में शराब की बोतल लेकर दरवाजे पर खड़ा दिखाई दे रहा है।

5 और 6 जून की रात को आरोपी टीचर स्कूल की प्रॉम नाइट में उपस्थित थी। जहां से वह अपने छात्र के साथ दूसरे होटल में गई और गलत हरकत की।

टीचर ने 17 वर्षीय नाबालिग छात्र के साथ होटल के कमरे में तीन घंटे गुज़ारे और साथ में शराब भी पी। टीचर कई बार छात्र के साथ सेक्सुअल ऐक्टिविटी में शामिल रही। उस रात की हरकत के आधार पर आरोपी टीचर स्कूल में पढ़ाने के योग्य नहीं है।


सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अधिकारी ने कहा कि फुटेज को देखते हुए कहीं से ऐसा नहीं लगता की ग्राहम बहुत ज्यादा शराब या ड्रग्स के नशे में थी। फुटेज में टीचर और छात्र को किस करते हुए भी देखा जा सकता है।
आपत्तिजनक सीडी मिलने के बाद केजरीवाल ने अपने मंत्री को हटाया...

आपत्तिजनक सीडी मिलने के बाद केजरीवाल ने अपने मंत्री को हटाया...

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आपत्तिजनक सीडी मिलने के बाद अपनी सरकार के महिला कल्याण एवं बाल विकास मंत्री संदीप कुमार को मंत्रिमंडल से हटा दिया है। खुद केजरीवाल ने ट्वीट कर ये जानकारी दी।

यह तस्वीर उस सीडी का हिस्सा है जो एबीपी न्यूज चैनल के पास है। (साभार: ABP न्यूज चैनल)


केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, मंत्री संदीप कुमार की 'आपत्तिजनक' सीडी मिली है। 'आप' सार्वजनिक जीवन में शुचिता के पक्ष में है और इससे समझौता नहीं किया जा सकता। तुरंत प्रभाव से इनको कैबिनेट से हटा रहे हैं।'

पार्टी सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल को सौंपी गई सीडी और कुछ तस्वीरों में मंत्री संदीप कुमार दो महिलाओं के साथ कथित रूप से आपत्तिजनक अवस्था में दिखाई दे रहे थे।

उल्लेखनीय है कि केजरीवाल सरकार के डेढ़ साल के कार्यकाल में ये तीसरे मंत्री हैं, जिनको पद से हटाया गया है। इससे पहले जून 2015 में कानून मंत्री जितेंद्र तोमर और अक्टूबर, 2015 में खाद्य आपूर्ति मंत्री आसिम अहमद खान को भी केजरीवाल को अपने कैबिनेट से हटाना पड़ा था।




पिछले महीने संदीप कुमार ने दिल्ली की सड़कों से भिखारियों को हटाने की योजना चलाई थी, लेकिन सीएम केजरीवाल ने इसे लेकर हो रही आलोचनाओं के बीच दखल देते हुए ट्विटर पर इस योजना को बंद करने की बात कही थी।

खबरों के मुताबिक संदीप कुमार ने ऐसी योजना बनाई थी जिसमें भिखारियों को सड़कों से उठाकर सरकार संचालित केंद्रों में रखा जाना था। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस बात पर आपत्ति जताई थी कि इसमें भिखारियों के पुनर्वास की कोई ठोस कार्ययोजना शामिल नहीं थी।

आपको बता दे की सियासत के बीच सेक्स संबंध कोई नई बात नहीं रही है। सेक्स, सीडी और सियासत का जब-जब कॉकटेल हुआ है, तब-तब हंगामा बरपा है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही राजनेताओं के बारे में जो सेक्स और सियासत के बीच फंसने के बाद सुर्खियों में आए थे........

रंगीन मिजाज एनडी के सीडी से बरपा था हंगामा :-




बात सन् 2009 की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण दत्त (एनडी) तिवारी उनदिनों आंध्र प्रदेश के राज्यपाल हुआ करते थे। एक दिन टीवी पर उनकी एक कथित सेक्स सीडी सामने आई, जिसने पूरे देश की राजनीति में भूचाल ला दिया। हर तरफ उसकी चर्चा होने लगी।

उस सीडी में एनडी तिवारी तीन महिलाओं संग आपत्तिजनक स्थिति में दिख रहे थे। उस वीडियो क्लिप को तेलुगू चैनल ने प्रसारित किया था। इस सीडी के सियासत ने ऐसा रंग दिखाया कि एनडी को राज्यपाल पद से इस्तीफा देकर वापस लौटना पड़ा।

सीडीकांड को उन्होंने अपने खिलाफ विरोधियों की साजिश बताया था। आंध्र प्रदेश से लौटने के बाद एनडी तिवारी उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश की सक्रिय राजनीति अपनी जमीन तलाश ही रहे थे कि एक नई मुसीबत सामने आ गई।

जवानी के दिनों में अपनी रंगीनमिजाजी के लिए मशहूर एनडी पर एक महिला ने नया आरोप लगा दिया। उस महिला ने बताया कि वह उनकी पत्नी है और उन दोनों से एक बेटा भी है। एनडी के इंकार पर यह मामला कोर्ट तक पहुंच गया। काफी इंकार के बाद उन्होंने पत्नी और बच्चे को अपना लिया।

नौकर के साथ दिखे थे बीजेपी नेता राघवजी :-

बात सन 2013 की है। एक सेक्स सीडी ने मध्य प्रदेश के सियासी गलियारों में तहलका मचा दिया था। उस सीडी में बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री राघवजी अपने नौकर राजकुमार के साथ अपनी वासना को शांत करते दिखे थे। वह अपने ड्राइंग रूम की कुर्सियों के बीच फर्श पर राजकुमार के साथ पूरे जोश के साथ काम क्रीड़ा में लीन दिखे। राघवजी तीन साल से यौन शोषण कर रहे थे। दूसरे वीडियो में राघवजी के ड्राइंग रूम में राजकुमार उनका मैस्टबेट करता दिखा।

भंवरी के भंवर में फंसी सियासत में आया भूचाल :-

भंवरी देवी का ताल्लुक राजस्थान की नट बिरादरी से था। वह जोधपुर के नजदीक पैनन कस्बे के एक सरकारी अस्पताल में नर्स थी। उसकी शादी भी हो चुकी थी। पर मॉडलिंग और राजस्थानी एल्बम को सीढ़ी बना कर वह फिल्मों की हीरोईन बनने का सपना पाले बैठी थी।

लिहाजा अपने इस ख्वाब को पूरा करने के लिए वह कुछ भी कर सकती थी। गांव के अस्पताल में ले देकर एक ही वही नर्स थी और वो भी ड्यूटी से गायब रहती थी। लिहाजा गांव वालों की शिकायत पर भंवरी देवी को नौकरी से सस्पेंड कर दिया गया था।

भंवरी देवी ने ऐलान किया था कि उसके पास एक सीडी है। जिसके बाहर आ जाने पर राजस्थान की सरकार तीन दिन में गिर जाएगी। आखिर क्या था उस सीडी में कि देश की एक राज्य सरकार को गिराने की धमकी दी जा रही थी? ऐसा क्या था उस सीक्रेट सीडी में कि नेताओं के हाथ-पांव फूलने लगे थे? साल 2010 तक भंवरी ने सत्ता का खूब सुख भोगा। पर अचानक बात बिगड़ी गई। भंवरी की ख्वाहिशें बेलगाम हो गईं थी। मंत्री मदेरणा के साथ अपने रिश्तों के एवज में सीधे विधानसभा का टिकट मांग बैठी।


यह बात 16 अगस्त, 2011 की है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मशहूर आरटीआई कार्यकर्ता 38 वर्षीया शहला मसूद की उसके घर के बाहर कार में हत्या कर दी गई। स्थानीय पुलिस को शुरू में लगा कि यह खुदकुशी का केस है। लेकिन जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ी इस केस की कड़ियां उलझती चली गईं। इस बीच मीडिया और लोगों के दबाव में आकर राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी। 19 अगस्त, 2011 को यह मामला सीबीआई को सुपुर्द कर दिया गया।


सीबीआई की जांच में एक अप्रत्याशित प्रेम त्रिकोण का खुलासा हुआ। जिसने जांच की पूरी दिशा बदल दी। इस प्रेम त्रिकोण में शामिल पात्र थेः प्रेम दीवानी जाहिदा परवेज, जिसकी शादी भोपाल के सबसे रईस बोहरा खानदानों में से एक में हुई थी। आशिक मिजाज ध्रुव नारायण सिंह, जो मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बिहार के पूर्व राज्यपाल गोविंद नारायण सिंह के बेटे हैं। और तेजतर्रार शहला मसूद, जो इवेंट मैनेजमेंट प्रोफेशनल होने के साथ आरटीआइ कार्यकर्ता थीं।
मोदीजी से देश की एक बेटी की गुहार, मुझे एक किडनी दिलाएं...

मोदीजी से देश की एक बेटी की गुहार, मुझे एक किडनी दिलाएं...

भारत की एक बेटी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। जिंदगी और मौत से लड़ रही 16 साल की खुशी को किडनी की जरूरत है।

पीएम मोदी से अपील में खुशी ने कहा, मोदी जी को मैं ये कहना चाहती हूं कि आप मेरी मदद करें। मेरी दोनों किडनी खराब हैं, मेरे लिए एक किडनी की व्यवस्था करें, ताकि मेरी जान बच सकें। प्रधानमंत्री से देश की एक बेटी की ये गुहार है।

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले की रहने वाली खुशी पढ़ लिखकर डॉक्टर बनना चाहती है, लेकिन उसकी बीमारी उसके सपनों का रास्ता रोक रही है।

बताया जाता है की खुशी की दोनों किडनी खराब हो चुकी हैं। बेटी की किडनी परिवार में से किसी से मेल नहीं खाई। अगर जल्द कोई डोनर नहीं मिला तो उसके लिए जीना मुश्किल हो जाएगा।

दरअसल, 6 साल पहले खुशी के पैरों में सूजन आ गई थी। डॉक्टरों को दिखाने पर पता चला कि उसकी दोनों किडनी खराब हो चुकी हैं। बेटी का इलाज कराते-कराते परिवार भी अार्थिक तंगी से गुजर रहा है।


इन्हें हफ्ते में दो बार डायलसिस के लिए अहमदाबाद जाना पड़ता है और हर बार 7 से 8 हजार रुपए खर्चा अाता है। पिता की तनख्वाह इतनी नहीं है। बेटी के इलाज की जरूरत बड़ी मुश्किल से पूरी हो पाती है। ऐसे में खुशी को पीएम माेदी से ही उम्मीद है।
Source@Pk
राजस्थान : इस मकान में महिलाएं करती मिली यह गंदा काम, पकड़ी गयी, देखें पूरी खबर!

राजस्थान : इस मकान में महिलाएं करती मिली यह गंदा काम, पकड़ी गयी, देखें पूरी खबर!

राजस्थान के अजमेर जिले में अजयनगर स्थित एक मकान पर दबिश देकर पुलिस ने रविवार को देह व्यापार का मामला पकड़ा।

संदिग्ध हालात में धरे गए तीन युवकों और तीन महिलाओं को पीटा एक्ट में कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया गया। आरोपित युवकों में दो व्यापारी और एक रेलकर्मचारी है।

पुलिस उप अधीक्षक(दक्षिण) पूनमचन्द विश्नोई ने अजय नगर स्थित एक मकान पर मय जाब्ता दबिश दी। इस दौरान पुलिस ने मकान के भीतर रेलवे कर्मचारी रमेश, नसीराबाद निवासी प्रकाश और नाका मदार निवासी योगेन्द्र को दो महिलाओं के साथ संदिग्ध हालात में पकड़ा जबकि एक अन्य महिला को अनैतिक कार्य कराने के मामले पकड़ा।

प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया कि तीसरी महिला अपने घर में अनैतिक कार्य के लिए ग्राहक से एक हजार रुपए वसूलती थी जबकि कमरे का भाड़ा 500 रुपए अतिरिक्त देय था। पुलिस सभी आरोपितों को सोमवार सुबह अदालत में पेश करेगी। मामले की जांच सीओ विश्नोई कर रही है।


मुखबिर ने अजय नगर में संचालित चकला घर की सूचना सीधे एसपी नितिनदीप ब्लग्गन को दी। एसपी ब्लग्गन ने विश्नोई को कार्रवाई के लिए निर्देश दिए। खास बात यह रही कि विश्नोई ने कार्रवाई की भनक रामगंज थाना पुलिस को भी नहीं पडऩे दी। 
बेटी बना सके कर्इ लड़कों से संबंध, इसलिए यहाँ पिता अपनी बेटियों के लिए करता है ये काम...

बेटी बना सके कर्इ लड़कों से संबंध, इसलिए यहाँ पिता अपनी बेटियों के लिए करता है ये काम...

दुनियाभर में हर संस्कृति, हर समाज की अपनी-अपनी परंपराएं होती हैं। कुछ के बारे में जानकर हम चौंक उठते हैं तो कुछ के बारे में हमें ये सूझता ही नहीं है कि हम उस पर कैसी प्रतिक्रिया दें।


एेसी ही एक परंपरा कंबोडिया की भी है, जिसके बारे में जो भी जानता है खुद को आश्चर्य से भरा पाता है। ये परंपरा एक कबीले की है, जहां लड़की एक-दो नहीं बल्कि कर्इ लड़कों से संबंध बनाती है।

कंबोडिया की ये परंपरा क्रिएन जनजाति में शादी से पहले एक अनोखी परंपरा है। इसके जैसी दुनिया में दूसरी मिसाल मिलना बेहद मुश्किल है। इस परंपरा के अनुसार क्रिएन जनजाति की लड़कियां कर्इ लड़कों से संबंध बना सकती है।

इसमें मददगार आैर कोर्इ नहीं बल्कि लड़की का परिवार होता है। लड़की के पिता बेटी की सहूलियत के लिए 'लव हट' का निर्माण करता है।

'लव हट' में लड़की को कोर्इ परेशानी ना हो इसका पूरा ख्याल रखा जाता है। यही कारण है कि इसमें कर्इ तरह की सुविधाएं होती है।

परिवार लड़कियों को संबंध बनाने की पूरी आजादी देता है। वह उस समय तक किसी से भी संबंध बना सकती है जब तक की उन्हें शादी के लिए सही पार्टनर नहीं मिल जाता है।


गौरतलब है कि दुनिया के कर्इ देशों में शादी से पूर्व संबंध बनाने को हेय दृष्टि से देखा जाता है। एेसे में इस कबीले की परंपराएं वाकर्इ चौंकाने वाली है।  
Video : लंदन में चीनी दूतावास के पास बलूचों का प्रदर्शन, जमकर लगे मोदी-मोदी के नारे

Video : लंदन में चीनी दूतावास के पास बलूचों का प्रदर्शन, जमकर लगे मोदी-मोदी के नारे

बलूचिस्तान का मुद्दा पूरी दुनिया में जोर पकड़ता दिख रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बलूचिस्तान का जिक्र भर किया था उसके बाद से दुनिया भर में बलूच अपनी आवाज बुलंद करते दिख रहे हैं। बलूचिस्तान में पाकिस्तान और चीन की साझेदारी में बन रहे चाइना पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (सीपीइसी) का विरोध भी पाकिस्तान के बाहर जोर पकड़ लिया है।

जर्मनी के बाद ब्रिटेन की राजधानी लंदन में बलूच और सिंधी नेता चीनी दूतावास के सामने सीपीइसी का विरोध कर रहे हैं। सिंधी और बलूच नेताओं के हाथों में 'नो सीपीइसी' की तख्तियां हैं। ये 'पीएम मोदी फोर बलूचिस्तान' के नारे लगा रहे हैं। चीनी दूतावास के बाहर लोग एक आवाज में नारे लगा रहें हैं- कदम बढ़ाओ मोदी जी हम तुम्हारे साथ हैं।

प्रदर्शन के दौरान बलूच नेता नूरदीन मेगल ने कहा, 'बलूच जनता की सहमति के बिना चीन और पाकिस्तान कुछ नहीं कर सकते। चीन और पाकिस्तान की नीति है कि जो चीज छीन सकते हो उसे छीन लो। दोनों देशों की यही कोशिश रहती है। हम दोनों देशों से साफ कहते हैं कि आप बिना बलूच जनता की सहमति से सीपीइसी पर काम नहीं कर सकते।' वर्ल्ड सिंधी कांग्रेस के चेयरमैन लखु लुहाना ने कहा कि हम किसी भी कीमत पर सीपीइसी प्रॉजेक्ट को कबूल नहीं कर करेंगे।

चीनी दूतावास के सामने बलूच और सिंधी 'है हक हमारा आजादी' के नारे लगा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के 70वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से राष्ट्र को संबोधित करते हुए बलूचिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन का मुद्दा उठाया था। उन्होंने बलूच जनता और पीओके के लोगों के प्रति आभार भी जाताया था।

मोदी के इस बयान का पाकिस्तान से नाराज बलूचों और पीओके के लोगों ने जमकर स्वागत किया था। पीएम के इस बयान का असर पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सीधे तौर पर दिखा। बलूचों ने पाकिस्तान में ही मोदी की तस्वीर के साथ तिरंगे लहराए। अफगानिस्तान ने भी मोदी के बयान का समर्थन किया। मोदी के समर्थन को लेकर पाकिस्तान ने बलूच नेताओं के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की। इन पर राष्ट्र के खिलाफ युद्ध छेड़ने के मामले तय किए गए हैं।


कहा जा रहा है कि मोदी ने बलूचिस्तान का नाम उस वक्त लिया जब अफगानिस्तान और पाकिस्तान में तनाव चरम पर है। ऐसे में माना जा रहा कि मोदी ने रणनीतिक रूप से बढ़िया वक्त चुना है। अफगानिस्तान खुलकर कह रहा है कि पाकिस्तान आतंकवाद को उसकी जमीन पर बढ़ावा दे रहा है। बलूच लोग अफगानिस्तान में भी रहते हैं। पाकिस्तान में चीन की बढ़ती गतिविधियों का बलूच खुलकर विरोध कर रहे हैं। ऐसे में पाकिस्तान से लाखों की संख्या में बलूच विस्थापित होकर अफगानिस्तान गए हैं।


पाकिस्तानी आर्मी के बारे में कई ऐसी रिपोर्ट आई है कि वह बलूचिस्तान में बर्बर तरीके से पेश आ रही है। पाकिस्तान ने जिन हजारों बलूच यूथ को हिरासत में रखा था वे आज तक घर लौट नहीं नहीं पाए। कहा जा रहा कि इन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। अमेरिका ने भी बलूचिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर चिंता व्यक्त की है। हालांकि चीन मोदी के इस कदम से खुश नहीं है। चीनी विशेषज्ञों का कहना है कि मोदी के इस कदम से दोनों देशों के रिश्तों में एक बार फिर से पाकिस्तान अहम हो जाएगा।